Thu. Jun 13th, 2024

[ad_1]

रायसेन22 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

भोपाल लोकायुक्त की टीम ने रायसेन तहसील कार्यालय में तहसीलदार के बाबू आरएन उर्फ गुड्डा साहू को नामांतरण के एक प्रकरण में आवेदक विवेक मालवीय से 50 हजार की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ अपनी कुर्सी पर गिरफ्तार किया है। लोकायुक्त की इस कार्रवाई से तहसील परिसर में हड़कंप मच गया कुछ अधिकारी और कर्मचारी अपनी कुर्सी छोड़कर गायब हो गए। वहीं, लोगों की भीड़ भी तहसील कार्यालय के बाहर जमा हो गई।

एक लाख रुपए की मांगी थी रिश्चत

सोमवार दोपहर 2 बजे भोपाल लोकायुक्त की टीम ने रायसेन तहसील के बाबू आरएन उर्फ गुड्डा साहू को आवेदक विवेक मालवीय निवासी मंडीदीप से रायसेन जिले के वागोद में 20 एकड़ जमीन की नपती नामांतरण के लिए पिछले 1 साल से एक लाख की मांग की जा रही थी आवेदक ने 50 हजार पहले दे दिए थे। जबकि इसकी शिकायत आवेदक विवेक मालवीय ने 8 मई को भोपाल लोकायुक्त से की थी। शिकायत सत्यापन के उपरांत आज दूसरी किस्त 50 हजार देने जैसे ही आवेदक विवेक मालवी तहसील कार्यालय पहुंचा तो यहां पहले से मौजूद लोकायुक्त की टीम ने बाबू आरएन उर्फ गुड्डा साहू को अपनी कुर्सी पर 50 हजार के साथ रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। तहसील कार्यालय में अन्य कर्मचारियों से भी टीम बारीकी से पूछताछ की जा रही है।

लोकायुक्त टीम से लोगों ने मांगा नंबर, बोले और लोगों को पकड़वाना है

तहसील कार्यालय में काम कराने आए लोगों को तब इस बात की जानकारी लगी की यहां लोकायुक्त की कार्रवाई हुई है। तहसीलदार के बाबू रिश्वत लेते पकड़े गए तो लोगों ने टीम से उनका नंबर मांगा बोले आपका नंबर दे दीजिए और लोगों को पकड़वाना है। इस पर निरीक्षक रजनी तिवारी ने लोगों को समझाइश दी कि इसकी एक प्रक्रिया होती है। उस प्रक्रिया के तहत ही कार्रवाई की जाती है। बाकी उन्होंने अपनी टीम का नंबर भी उन लोगों को दे दिया।

1 साल में चार बार हुई रायसेन में लोकायुक्त की कार्रवाई
रायसेन जिले में रिश्वतखोरी के मामले बढ़े हैं, जिसका जीता जागता उदाहरण यह है कि बीते 1 साल में ही लोकायुक्त द्वारा चार बार कार्यवाही की गई है, जिसमें
अभी हाल ही में ही 1 महीने पहले जिले की तहसील बरेली में पटवारी को जमीन के बटन में सुधार करवाने के एवज में 25000 की रिश्वत मांगी गई थी जिसमें 15000 लेते हुए लोकायुक्त टीम द्वारा रंगे हाथ पटवारी को गिरफ्तार किया था वही लगभग 3 महीने पहले रायसेन तहसील के ही आरआई को सीमांकन के लिए रिश्वत के मामले में पकड़ा था वही बाड़ी स्थित वनरक्षक 2000 की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया था जिला पंचायत के डाटा एंट्री ऑपरेटर को भी 20 हजार की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया था जबकि 2022 में जिले की तहसील गैरतगंज के एसडीएम मनीष जैन को रिश्वत लेते हुए लोकायुक्त की टीम ने पकड़ा था।
कार्रवाई के दौरान ये रहे मौजूद निरीक्षक रजनी तिवारी मनोज पटवा नीलम पटवा विकास पटेल प्रधान आरक्षक राजेंद्र पवन मुकेश सिंह मनमोहन साहू हेमेंद्र मनोज मांझी शामिल थे

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *