Thu. Jun 13th, 2024

[ad_1]

रीवा31 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

श्रम विभाग के तहत संचालित संबल-2 योजना के तहत अनुग्रह सहायता राशि के प्रकरणों के निराकरण में रीवा संभाग को प्रदेश में प्रथम स्थान प्राप्त हुआ है। रीवा संभाग ने 94.29 प्रतिशत आवेदनों का निराकरण करके प्रथम स्थान प्राप्त किया है।

संभागायुक्त अनिल सुचारी ने बताया कि अनुग्रह सहायता के आवेदन पत्रों के निराकरण में 92.66 प्रतिशत आवेदनों का निराकरण करके जबलपुर संभाग को प्रदेश में दूसरा और 90.78 प्रतिशत प्रकरणों का निराकरण करके इंदौर संभाग को तीसरा स्थान प्राप्त हुआ है।

वहीं रीवा संभाग में सर्वाधिक 98.17 प्रतिशत प्रकरणों का निराकरण करके सतना जिला संभाग में प्रथम स्थान पर रहा है। रीवा जिले में 95.6 प्रतिशत, सिंगरौली जिले में 92.9 प्रतिशत और सीधी जिले में 89.24 प्रतिशत आवेदन पत्रों का निराकरण किया गया।

दुर्घटना में मौत पर 4 लाख की सहायता राशि
संभागायुक्त ने बताया कि संबल-2 योजना के तहत पंजीकृत मजदूरों को दुर्घटना में मौत होने पर उनके आश्रितों को 4 लाख रुपए और सामान्य मौत होने पर आश्रितों को दो लाख रुपए की अनुग्रह सहायता दी जाती है। इसके साथ-साथ मजदूर के अंतिम संस्कार के लिए पांच हजार रुपए की अंत्येष्टि सहायता भी ग्राम पंचायत एवं नगरीय निकायों के माध्यम से दी जाती है।

911 आवेदन पत्र दर्ज
योजना के तहत प्राप्त आवेदन पत्रों के निराकरण की जिले के सभी कलेक्टर साप्ताहिक टीएल बैठक में समीक्षा करके जनपद पंचायतों और नगरीय निकायों के माध्यम से आवेदन पत्रों का निराकरण करा रहे हैं। नियमित समीक्षा के कारण 12 मई से 14 जून की अवधि में 911 आवेदन पत्र दर्ज किए गए। इनमें से 799 आवेदन पत्र स्वीकृत किए गए। 60 आवेदन पत्र विभिन्न कारणों से अमान्य कर दिए गए।

52 आवेदन पत्र लंबित
अब केवल 52 आवेदन पत्र लंबित हैं। इनका निराकरण भी एक सप्ताह में कर दिया जाएगा। समय पर प्रकरणों के निराकरण से पीड़ितों को अनुग्रह सहायता राशि प्राप्त हो रही है। संभागीय कार्यालय से संयुक्त आयुक्त नीलेश पारीख, उपायुक्त अशोक ओहरी और प्रभारी अधिकारी दिव्या त्रिपाठी द्वारा प्रकरणों के निराकरण की मानीटरिंग की।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *