Sat. Jun 22nd, 2024

[ad_1]

  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Damoh
  • Former Finance Minister Jayant Malaiya’s Son Joins BJP V.D. Siddharth Returns To The Party In The Presence Of Sharma And Narottam Mishra

दमोह31 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

मध्यप्रदेश के पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया के बेटे सिद्धार्थ मलैया की गुरुवार सुबह भाजपा में वापसी हो गई है। उनके साथ दमोह के पांच पूर्व मंडल अध्यक्षों ने भी भाजपा ज्वाइन की है।

यह राजनीतिक घटनाक्रम प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा, प्रदेश संगठन प्रभारी मुरलीधर राव और राज्य सरकार के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा की मौजूदगी में सुबह भोपाल भाजपा कार्यालय में हुआ। इस अवसर पर सिद्धार्थ ने कहा कि पार्टी का आभार कि मुझे दोबारा मौका दिया गया।

सिद्धार्थ ने उपचुनाव में टिकट मांगा था

वर्ष 2018 हुए विधानसभा चुनाव में पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया को कांग्रेस प्रत्याशी राहुल सिंह ने 798 वोट से चुनाव हरा दिया था। कुछ दिनों बाद राहुल सिंह कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए। उसके बाद दमोह में उपचुनाव हुआ। जिसमें सिद्धार्थ मलैया ने पार्टी से टिकट मांगा था। लेकिन पार्टी ने कमिटमेंट के तहत राहुल सिंह को भाजपा का प्रत्याशी घोषित कर दिया। फिर चुनाव हुआ जयंत मलैया और उनके बेटे सिद्धार्थ ने पार्टी का प्रचार भी किया लेकिन भाजपा के प्रत्याशी राहुल सिंह चुनाव हार गए।

राहुल के भीतरघात करने वाले आरोप पर पार्टी ने की थी कार्रवाई

राहुल सिंह जब चुनाव हार गए तो उन्होंने कहा कि मलैया परिवार के भीतरघात के कारण वे चुनाव हारे हैं। इसके बाद भाजपा संगठन ने जयंत मलैया को एक नोटिस दिया और उनसे जवाब मांगा। साथ ही जयंत मलैया के बेटे सिद्धार्थ मलैया और दमोह के पांच नगर मंडल अध्यक्षों को पार्टी से बाहर कर दिया। उन नगर मंडल अध्यक्षों में मनीष तिवारी, अजय सिंह लोधी, अभिलाष हजारी, देवेंद्र राजपूत और संतोष रोहित का नाम शामिल हैं।

नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव में मंत्री पुत्र दिखा चुके अपनी ताकत

पंचायत चुनाव और नगरीय निकाय चुनाव में जयंत मलैया के बेटे सिद्धार्थ शक्ति प्रदर्शन कर चुके हैं। दोनों ही जगह भाजपा का प्रत्याशी अध्यक्ष बन सकता था, लेकिन सिद्धार्थ मलैया ने TSM नाम की एक अघोषित पार्टी खड़ी करके भाजपा को नुकसान पहुंचाया था। जिस वजह से दमोह नगरपालिका अध्यक्ष कांग्रेस का बन गया था। वहीं, जिला पंचायत अध्यक्ष की गद्दी भी कांग्रेस खाते में चली गई थी। इसके बाद पार्टी से उनकी दूरियां लगातार बढ़ती जा रही थी।

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *