Tue. May 28th, 2024

[ad_1]

भोपाल2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

भोपाल एयरपोर्ट के नॉन ऑपरेशन एरिया में घूम रहे एक सियार का वन विभाग ने रेस्क्यू किया। पीएम के दौरे के चलते अमला यहां मुस्तैद था। सियार को घूमता देख पिंजरा लगाया गया था। बाद में उसे केरवा के जंगल में छोड़ दिया गया।

एयर पोर्ट पर ऑपरेशन एरिया से जुड़ा ही नॉन ऑपरेशन एरिया है। भोपाल में पीएम नरेंद्र मोदी के आगमन के चलते वन विभाग की टीम यहां सर्चिंग कर रही थी। एयरपोर्ट के आसपास मांस-मछली की दुकानें हैं। इस कारण लकड़बग्घा, सियार आदि जानवर घूमते रहते हैं। इसलिए पिंजरा लगाया गया था।

पिंजरे में रखी मछली, ताकि लालच में फंस सके
सियार को पकड़ने के लिए पिंजरे में मछली रखी गई थी। ताकि वह लालच में फंस सके। हुआ भी वैसा ही। मछली को देख सियार पिंजरे में फंस गया। एसडीओ आरएस भदौरिया ने बताया कि पिंजरे में आने के बाद सियार को केरवा के जंगल में छोड़ दिया गया। एयरपोर्ट के आसपास लगातार नजर रखते हैं। टीम सर्चिंग भी करती है।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

[ad_1]

भोपाल2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

भोपाल एयरपोर्ट के नॉन ऑपरेशन एरिया में घूम रहे एक सियार का वन विभाग ने रेस्क्यू किया। पीएम के दौरे के चलते अमला यहां मुस्तैद था। सियार को घूमता देख पिंजरा लगाया गया था। बाद में उसे केरवा के जंगल में छोड़ दिया गया।

एयर पोर्ट पर ऑपरेशन एरिया से जुड़ा ही नॉन ऑपरेशन एरिया है। भोपाल में पीएम नरेंद्र मोदी के आगमन के चलते वन विभाग की टीम यहां सर्चिंग कर रही थी। एयरपोर्ट के आसपास मांस-मछली की दुकानें हैं। इस कारण लकड़बग्घा, सियार आदि जानवर घूमते रहते हैं। इसलिए पिंजरा लगाया गया था।

पिंजरे में रखी मछली, ताकि लालच में फंस सके
सियार को पकड़ने के लिए पिंजरे में मछली रखी गई थी। ताकि वह लालच में फंस सके। हुआ भी वैसा ही। मछली को देख सियार पिंजरे में फंस गया। एसडीओ आरएस भदौरिया ने बताया कि पिंजरे में आने के बाद सियार को केरवा के जंगल में छोड़ दिया गया। एयरपोर्ट के आसपास लगातार नजर रखते हैं। टीम सर्चिंग भी करती है।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *