Fri. Jun 21st, 2024

[ad_1]

  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Damoh
  • After The Postmortem, The Relatives Reached The Hospital Intersection With The Dead Body, The Police Administration Was Busy In Persuading

दमोह5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

दमोह जिला जेल में 7 साल की सजा काट रहे एक कैदी की मौत के मामले में अब परिवार के लोग जेल प्रशासन पर हत्या का आरोप लगा रहे हैं उनका कहना है की जेल में पैसों की मांग की गई ना देने पर प्रसारित किया गया वह फिर हत्या कर दी गई परिवार के लोग रविवार दोपहर पोस्टमार्टम के बाद से लेकर अस्पताल चौराहे पर पहुंचे और धरने पर बैठ गए खबर मिली तो पुलिस और प्रशासन के लोग भी मौके पर पहुंचे हैं जो उचित कार्रवाई का आश्वासन देकर परिजनों को मनाने का प्रयास कर रहे हैं।

जेल में बंद मुर्गा गांव निवासी तोताराम काछी को शनिवार दोपहर सीने में दर्द होने के बाद जेल प्रशासन ने उसे जिला अस्पताल भेजा था, जहां डॉक्टर ने परीक्षण के बाद उसे मृत घोषित कर दिया है। जेल के उप अधीक्षक का कहना था कि कैदी की मौत हार्टअटैक से हुई है। भाई डॉक्टर का कहना था कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही मौत का कारण स्पष्ट होगा। जेल आरक्षक कुलदीप कोष्टि ने बताया था उसे सूचना मिली थी कि एक कैदी की हालत बिगड़ गई उसे अस्पताल ले जाना है। मैं यहां लेकर आया डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया। जिला अस्पताल में डॉक्टर गौरव ने कहा था कि मौत का कारण अज्ञात है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही सही कारण सामने आएगा। जिला जेल के उप अधीक्षक सीएल प्रजापति का कहना था कि शाम 4:20 पर उसे सीने में दर्द की शिकायत की थी, उसे अटैक आया था। 4:25 पर उसे जिला अस्पताल भेजा गया 4:30 पर अस्पताल पहुंचा और 4.45 पर डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया। शुक्रवार को भी उसके सीने में दर्द था। पुलिस गार्ड की मांग की गई थी, लेकिन पुलिस गार्ड नहीं मिली। मृतक 307 में आरोपी था जिसे 7 साल की सजा हुई थी। ₹40000 जुर्माना न भर पाने के कारण 3 माह की अतिरिक्त सजा और थी। मृतक कैदी 5.12. 2020 को जिला जेल में पहुंचा था, जो सजा काट रहा था।

परिवार के साथ धरना- प्रदर्शन में शामिल

समाजवादी नेता योगेंद्र कुशवाहा का आरोप है कि जेल में तोताराम से ₹10000 की मांग की गई थी। उसे प्रताड़ित किया जा रहा था। पैसे नहीं दिए तो उसकी हत्या कर दी गई। मामला संदिग्ध है। वह चाहते हैं कि इस मामले में तत्काल दोषियों के खिलाफ कार्रवाई हो। परिजनों का यह भी कहना है कि जब तक दोषियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की जाती, वह धरना जारी रखेंगे। उधर पुलिस प्रशासन के अधिकारी परिजनों को मना रहे हैं। देहात थाना टीआई सतेंद्र सिंह राजपूत ने परिवार के लोगों से कहा कि मामले की जांच चल रही है। कलेक्टर ने मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए हैं। जांच होने के बाद कार्रवाई होगी, लेकिन परिजन कह रहे हैं उन्हें भी कार्रवाई चाहिए। फिलहाल परिवार के लोग अस्पताल चौराहे पर बैठे हुए हैं।

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *