Tue. May 21st, 2024

[ad_1]

गंजबासौदा28 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

शहर की एक सहकारी बैंक द्वारा लोगों को लाखों रुपए लेकर भागने का मामला सामने आया है। इस सहकारी बैंक में रुपए जमा कराने वाले दर्जनों लोगों ने थाने पहुंचकर बैंक के संचालक पर धोखाधड़ी करने का आरोप लगाते हुए उसके खिलाफ कार्रवाई की मांग की। उन्होंने बैंक में जमा राशि वापस दिलाने की मांग की है।

थाने में पहुंचे नव भारतीय साख सहकारी समिति की धोखाधड़ी से पीड़ित एवं इसी समिति के एक एजेंट कपिल विश्वकर्मा ने बताया कि वर्ष 2018 से बरेठ रोड होंडा शोरूम के पास इस समिति का कार्यालय स्थापित था। समिति का कर्ताधर्ता संतोष कुशवाह है। इस समिति का कामकाज पूरी तरह बैंकों जैसा था। इसमें राशि जमा कराने वालों की जानकारी के साथ उन्हें पासबुक भी जारी की गई थी।

खाताधारकों को पासबुक में उनकी जमा राशि की एंट्री भी की जाती थी। इस समिति द्वारा खाताधारकों से निर्धारित समय सीमा के लिए एकमुश्त राशि जमा कराई जाती थी। कुछ लोगों से प्रतिदिन के हिसाब से राशि जमा कराई जाती थी। जिसके लिए कपिल विश्वकर्मा सहित कुछ अन्य युवकों को एजेंट बना रखा था।

विश्वास दिलाने कुछ लोगों को लौटाए रुपए

कपिल के अनुसार समिति ने गत वर्ष तक तो सभी खाताधारकों की जमा राशि निर्धारित ब्याज सहित उपलब्ध कराई थी। इससे उसका विश्वास खाताधारकों में जम जाए, लेकिन इसके बाद जमा कराई गई लाखों रुपए की राशि अब समिति संचालक द्वारा वापस नहीं की जा रही है और समिति कार्यालय पर भी ताला लगा हुआ है। कपिल के अनुसार समिति इसी तरह का काम सिरोंज, कुरवाई, पठारी में भी करती थी और वहां से भी धोखाधड़ी की शिकायतें आई हैं। समिति संचालक संतोष कुशवाह का मोबाइल नंबर भी नहीं लग रहा है।

रुपए वापस दिलाएं

खाताधारक, एजेंटों से राशि वापस लेने के लिए दबाब बनाकर अभद्रता कर रहे हैं। आवेदन में कहा गया है कि समिति संचालक संतोष कुशवाह पर कार्रवाई कर खाताधारकों की राशि वापस दिलाई जाए। इस संबंध में कोतवाली टीआई केएस मुकाती का कहना है कि पुलिस को इस संबंध में आवेदन प्राप्त हुआ है, अब मामले की जांच की जा रही है।

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *