Sun. May 26th, 2024

[ad_1]

  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Betul
  • Ministry Of External Affairs And Home Affairs Are Also Not Aware, Hence The Deputy Collector’s Event Surrounded In Controversy

बैतूल9 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

आमला में आज आयोजित अंतर्राष्ट्रीय सर्व धर्म सम्मेलन प्रशासन से अनुमति न मिलने से सुर्खियों में है। कार्यक्रम इसलिए भी चर्चा में हैं क्योंकि इसमें विदेशी सैलानी पहुंच रहे हैं। इस आयोजन में शामिल होने की अनुमति न मिलने से इस्तीफा देने वाली डिप्टी कलेक्टर के इस मामले शासन और प्रशासन पर हमलावर हैं।

बता दें कि एसपी के प्रतिवेदन के बाद प्रशासन ने कार्यक्रम को अनुमति देने से इनकार कर दिया था। कार्यक्रम आयोजन की अनुमति को लेकर मध्यप्रदेश शासन गृह विभाग द्वारा जारी निर्देशों के परिपालन में जिला प्रशासन ने पुलिस अधीक्षक बैतूल से विस्तृत प्रतिवेदन और अभिमत प्राप्त किया गया।

बैतूल एसपी के प्रतिवेदन के आधार पर जिला दण्डाधिकारी बैतूल के अनुमोदन से अपर जिला दण्डाधिकारी बैतूल द्वारा जारी आदेश में अंतर्राष्ट्रीय सर्वधर्म सम्मेलन एवं विश्वशांति पुरस्कार कार्यक्रम आयोजन की अनुमति नहीं देने तथा अनुमति संबंधी आवेदन को नस्तीबद्ध करने का उल्लेख किया है।

इन कारणों से नहीं दी अनुमति

अपर जिला दण्डाधिकारी बैतूल द्वारा जारी आदेश में एसपी बैतूल के प्रतिवेदन का हवाला देकर अनुमति नहीं देने के कारण बताए गए हैं। अपर जिला दण्डाधिकारी द्वारा जारी आदेश में पुलिस अधीक्षक के प्रतिवेदन का उल्लेख किया कि उक्त कार्यक्रम में श्रीलंका के न्याय मंत्री एवं 11 देशों के शांतिदूत व थाईलैण्ड के वरिष्ठ बौद्ध भिक्षु सम्मिलित होने वाले है। लेकिन अंतर्राष्ट्रीय सर्वधर्म शांति केंद्र आमला के द्वारा जो सूचना पत्र प्रस्तुत किया है। उसमें वीजा की अनुमति व प्रकृति के संबंध में प्रपत्र संलग्न नहीं किया है।

साथ ही विदेशी नागरिकों की सुरक्षा श्रेणी के संबंध में शासन से दिशा निर्देश भी प्राप्त नहीं हुए है। जारी पत्र में उल्लेख किया है कि कार्यक्रम स्थल हवाई पट्टी आमला एयरफोर्स स्टेशन है जो कि सामरिक दृष्टि से संवेदनशील है। ऐसी स्थिति में दस्तावेजों के अभाव में विदेशी नागरिकों की उपस्थिति में 25 जून को आयोजित होने वाले अंतर्राष्ट्रीय सर्वधर्म शांति सम्मेलन एवं विश्व शांति पुरस्कार कार्यक्रम आयोजित किए जाने की अनुमति दिया जाना उचित नहीं है।

गृह और विदेश मंत्रालय से भी अनुमति का पेंच
बताया जा रहा है की इस आयोजन को लेकर सरकार ,प्रशासन से अनुमति मिलने के पहले ही सारे अतिथियों के टिकट तक बुक करवा लिए गए थे। जबकि आयोजन में विदेशी सैलानियों के शामिल होने को लेकर न तो विदेश मंत्रालय से और न ही गृह मंत्रालय से कोई अनुमति ली गई थी। प्राप्त जानकारी के अनुसार, टूरिस्ट वीजा पर आयोजन में शामिल होने की विदेशी नेताओं ने भारत सरकार से अनुमति नहीं ली थी। विदेशी नेताओं को भारतीय कार्यक्रम में शामिल होने के लिए गृह मंत्रालय भारत सरकार अनुमति देता है। इसके लिए ऐसी भी कोई अनुमति नहीं ली गई थी।।

इस कार्यक्रम में मुख्य भूमिका में नजर आ रही निशा बांगरे ने भी कार्यक्रम के प्रचार प्रसार शुरू करने ,अतिथियों के टिकट बुक कराने तक राज्य सरकार से कोई अनुमति नहीं ली थी। इसी वजह से सरकार ने इस मामले सख्ती दिखाई है। यह एक प्रशासनिक अधिकारी का प्रोटोकाल उल्लंघन माना का रहा है।

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *