Sun. May 26th, 2024

[ad_1]

इंदौरएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

करीब आठ साल बाद छत्रीबाग रामद्वारा पर अंतरराष्ट्रीय रामस्नेही संप्रदाय के आचार्य जगद्गुरु स्वामी रामदयाल महाराज के सान्निध्य में आत्मनिर्भर साधना चातुर्मास का शुभारंभ रविवार को हो गया। इसके लिए गोराकुंड रामद्वारा से छत्रीबाग रामद्वारा तक आचार्यश्री की भव्य पधरावणी यात्रा निकाली गई।

अनुयायियों ने आचार्यश्री की उत्साहपूर्वक अगवानी की।

अनुयायियों ने आचार्यश्री की उत्साहपूर्वक अगवानी की।

मार्ग में महाराजश्री के स्वागत के लिए रेड कारपेट बिछाया गया और जगह-जगह मंच लगाकर फूल बरसाए गए। यात्रा में शामिल श्रद्धालु भजनों पर नाच रहे थे। इसमें बड़ी संख्या में रामस्नेही संप्रदाय के अनुयायी और अन्य समाजजन शामिल हुए। आचार्य रामदयाल महाराज नागरिकों को आशीर्वाद देते हुए चल रहे थे।

पधरावणी यात्रा में बड़ी संख्या में शामिल हुए समाजजन।

पधरावणी यात्रा में बड़ी संख्या में शामिल हुए समाजजन।

यात्रा में थे कई आकर्षण के केंद्र

यात्रा में सबसे आगे नगाड़ा और तुरही लिए विशेष वेशभूषा में कलाकार ऊंटों पर सवार थे। ढोल-ताशे और नगाड़े, अश्वारोही युवा, स्वचलित तोप से पुष्प वर्षा, बैंड दल, खुले ट्राले पर सज्जित झांकियां, नृत्य दल और भजन गायकों की टीमें शामिल थीं। संत समाज तथा वर्षा एवं धूप से बचाने के लिए चलित शामियाना भी यात्रा में था।

यात्रा में कलश लेकर शामिल हुईं महिला श्रद्धालु।

यात्रा में कलश लेकर शामिल हुईं महिला श्रद्धालु।

मंगलकलश और गन्ना लेकर चलीं महिलाएं

यात्रा के दौरान बड़ी संख्या में महिलाएं मंगलकलश और गन्ना लेकर चलीं। पुरुष श्वेत वस्त्र धारण करके चल रहे थे। चालीस वाहनों पर ध्वज पताकाएं सुशोभित थी। एक सजे हुए रथ पर चंवर-छत्र और दंड लिए 20 सदस्यों का लवाजमा भी था। पूरे मार्ग में आचार्यश्री के आगे-आगे पगमंडे बिछाते हुए श्रद्धालु चल रहे थे ।

भजनों पर नृत्य करती राधा-कृष्ण बनी युवतियां भी आकर्षण का केंद्र रहीं।

भजनों पर नृत्य करती राधा-कृष्ण बनी युवतियां भी आकर्षण का केंद्र रहीं।

शामिल हुए विशिष्ट समाजजन

यात्रा में देवेंद्र मुछाल, लक्ष्मी कुमार मुछाल, रामनिवास मोड, रामसहाय विजयवर्गीय, मुकेश कचोलिया, आरडी फरकिया, दिनेश धनोतिया, योगेश सोनी, आशीष सोनी,राज कुमार मेहता, सुनील जायसवाल, सुभाष धनोतिया, संजय गुप्ता, सुनील डबलानी, श्रीराम मांडलिया, राजेंद्र पोरवाल, अनमोल पांडे आदि विशेष रूप से उपस्थित थे।

पधरावणी यात्रा में हाथी के पीछे युवक भगवा ध्वजाएं लेकर चल रहे थे।

पधरावणी यात्रा में हाथी के पीछे युवक भगवा ध्वजाएं लेकर चल रहे थे।

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *