Thu. Jun 13th, 2024

[ad_1]

  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Water Fills In The Parking Lot Of A Flat Worth Rs 75 Lakhs, Fire Fighting System Is Also Not Operational

भोपाल24 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
वर्तमान व पूर्व विधायकों के निजी आवास के रूप में बनाए गए जिस रचना टावर्स में 75 लाख रुपए तक की कीमत के फ्लैट हैं - Dainik Bhaskar

वर्तमान व पूर्व विधायकों के निजी आवास के रूप में बनाए गए जिस रचना टावर्स में 75 लाख रुपए तक की कीमत के फ्लैट हैं

वर्तमान व पूर्व विधायकों के निजी आवास के रूप में बनाए गए जिस रचना टावर्स में 75 लाख रुपए तक की कीमत के फ्लैट हैं, वहां पार्किंग में बारिश का पानी भर जाता है। आग जैसी दुर्घटना से बचाव के लिए यहां फायर फाइटिंग सिस्टम लगाए गए हैं, लेकिन इनके पाइप जुड़े नहीं हैं। कहने के लिए यहां चार गेट हैं, लेकिन एक ही चालू है। यहां लगभग 200 परिवार रहते हैं, लेकिन सफाई की व्यवस्था ठीक नहीं है। ऐसे में यहां जगह-जगह कचरे के ढेर लगे हुए हैं।

करीब एक साल पहले आवास संघ ने 150 करोड़ रुपए से 320 फ्लैट के 8 टॉवर तैयार किए हैं। कई वर्तमान व पूर्व विधायकों के साथ अन्य ने भी यह फ्लैट खरीदे हैं या किराए पर रह रहे हैं। शहर के लगभग बीच में स्थित और एमपी नगर जैसे व्यावसायिक इलाके से वॉकिंग डिस्टेंस पर स्थित रचना टावर में रहने वाले लोग उसी तरह की समस्याओं से दो-चार हो रहे हैं, जिनका सामना शहर की अन्य कॉलोनियों के रहवासी कर रहे होते हैं। टावर में एंटर होते ही इस बात का अहसास नहीं होता कि आप माननीयों के लिए बनी किसी कॉलोनी में दाखिल हो रहे हैं।

सफाई का इंतजाम नहीं.. कैंपस में सफाई का इंतजाम नहीं है। जगह-जगह कचरे के ढेर लगे हैं। निर्माण पूरा हुए साल भर से अधिक हो गया, लेकिन अभी भी यहां बिल्डिंग मटेरियल पड़ा हुआ है। यहां फायर फाइटिंग सिस्टम है, लेकिन इसके पाइप कनेक्टेड नहीं हैं, यानी यहां से पानी ऊपर नहीं पहुंचेगा। पार्किंग के ठीक बाहर चैंबर खुला-पार्किंग के ठीक बाहर सीवेज चैंबर के ढक्कन खुले हुए हैं। जरा सी चूक से चैंबर में गाड़ी का पहिया फंसना तय है। यदि कोई टू व्हीलर फंस गई तो बड़ी दुर्घटना हो सकती है।

पार्किंग का फर्श उखड़ा-बारिश होते ही टॉवर की पार्किंग में पानी भर जाता है। बार-बार पानी भरने के कारण हालत यह है कि पार्किंग का फर्श उखड़ गया है। सीमेंट धूल बनकर उड़ रही है। बड़ी-बड़ी गाड़ियां जब पार्किंग में आती-जाती हैं तो यहां धूल उड़ती है।

…. और इधर ये हाल

200 करोड़ से बने खाली मकानों का प्लास्टर उखड़ा
स्मार्ट सिटी कंपनी होटल पलाश के सामने जी और एफ टाइप सरकारी मकानों के 6 टॉवर बना रही है। इनमें से 5 टॉवर पिछले एक साल से तैयार हैं। इन्हें अभी अलॉट नहीं किया गया है। खाली मकानों का प्लास्टर उखड़ गया है। दो महीने पहले निर्माणाधीन छठे टॉवर की 16 वीं मंजिल की गैलरी की दीवार गिर गई थी। 200 करोड़ रुपए का यह प्रोजेक्ट शुरू से ही विवादों में है। आज भी इस सवाल का जवाब किसी के पास नहीं है कि यह प्रोजेक्ट कब पूरा होगा और लोगों को यहां मकान कब अलॉट होंगे।

सभी का निराकरण करेंगे…
“रचना टावर में कुछ परेशानियां हैं। हमने बिल्डर का फाइनल पेमेंट नहीं किया है। ड्रेनेज और सामने की सड़क का काम जुलाई तक पूरा हो जाएगा। सभी समस्याओं का निराकरण करेंगे। फायर फाइटिंग सिस्टम का भी परीक्षण करा रहे हैं।”
– संजय दलेला, एमडी मप्र आवास संघ

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *